Browsing: व्यंग

व्यंग आदरणीय मूसेवाला जी एक महान दार्शनिक और समाज सुधारक थे। देश में सामाजिक सामंजस्य लाने के लिए उन्होंने अपनी…

रूस पर नेहरू जी द्वारा लिखी गई एक प्राचीन किन्तु अप्रकाशित कविता में उन्होंने इस बात का स्पष्ट जिक्र किया था कि रूस और यूक्रेन का मसला एडविना कि जुल्फों जितना ही पेचीदा है।